ALL देश उत्तर प्रदेश पंचायत वार्ड कुछ अलग
ईद पर इस बार BSF ने पाकिस्तान को नहीं दी मिठाई, बांग्लादेश का कराया मुँह मीठा
May 26, 2020 • विशेष प्रतिनिधि

अधिकारियों ने कहा कि पश्चिमी सीमा पार से आतंकवाद की घटनाएँ लगातार जारी हैं और इसलिए, जम्मू से गुजरात तक भारत-पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय सीमा पर किसी भी स्थान पर ईद की मिठाई का आदान-प्रदान नहीं हुआ। दोनों देशों के बीच मौजूदा तनावपूर्ण हालातों को देखते हुए यह फैसला लिया गया।

ईद पर भारत-पाकिस्तान सीमा पर बीएसएफ और पाकिस्तान रेंजर्स के बीच हर साल होने वाली मिठाइयों के आदान-प्रदान की रस्म अदायगी आज सोमवार (मई 25, 2020) को मनाई गई ईद पर नहीं हुई। हालाँकि, बीएसएफ ने बांग्लादेश के सीमा सुरक्षाबल बीजीबी के जवानों को ईद की बधाई दी और उनका मुँह मीठा करवाया।

सरहद की रक्षा के जिम्मेदार सीमा सुरक्षा बल के अधिकारियों ने कहा कि इस बार पाकिस्तान के साथ मिठाई नहीं बाँटी गईं। दोनों देशों के बीच मौजूदा तनावपूर्ण हालातों को देखते हुए यह फैसला लिया गया।

अधिकारियों ने कहा कि पश्चिमी सीमा पार से आतंकवाद की घटनाएँ लगातार जारी हैं और इसलिए, जम्मू से गुजरात तक भारत-पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय सीमा पर किसी भी स्थान पर ईद की मिठाई का आदान-प्रदान नहीं हुआ।

पाकिस्तान ने पिछले साल दिवाली के दिन भी सीजफायर का उल्लंघन किया था। जम्मू कश्मीर में एलओसी के पास राजौरी जिले के सुंदरबन सेक्टर में फायरिंग की गई थी, बावजूद इसके दिवाली और गणतंत्र दिवस (26 जनवरी) के दौरान भारतीय सेना ने पाकिस्तानी रेंजर्स को मिठाई देने के लिए संदेश भिजवाया था, लेकिन सीमा के उस पार से कोई सकारात्मक जवाब नहीं आया।

पाकिस्तानी रेंजर ने बीएसएफ को संदेश भेजा था कि वह इस बार दिवाली की मिठाई स्वीकार नहीं करेंगे, जिसके बाद भारत ने भी पाकिस्तान जम्मू-कश्मीर में अंतरराष्ट्रीय बॉर्डर और एलओसी पर बीएसएफ के जवानों की ओर से कोई मिठाई नहीं भिजवाई।

बीएसएफ ने पूर्वी मोर्चे पर तैनात बॉर्डर गार्ड बांग्लादेश (BGB) के साथ मिठाई का आदान-प्रदान किया। भारत और बांग्लादेश 4,096 किलोमीटर लंबी अंतरराष्ट्रीय सीमा साझा करते हैं। बीएसएफ के दक्षिण बंगाल फ्रंटियर की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है, “दोनों देश और सीमा-सुरक्षा बलों के बीच गर्मजोशी बरकरार है। ईद के दौरान त्यौहारों की खुशी भी बाँटी गई। बीएसएफ और बीजीबी सौहार्दपूर्ण संबंध साझा करते हैं। दोनों देश एक समान संस्कृति, परंपराओं और त्यौहार मनाते हैं।”